आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 01 Aug 2018 13:41:17


भोपाल(विसंके). आशा उत्साह की जननी है । आशा में तेज है, बल है, जीवन है । आशा ही संसार की संचालक शक्ति है


  • - मुंशी प्रेमचंद