आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 03 Sep 2018 14:59:00


अगर तुम्हारी वजह से कोई इ्ंसान दुखी रहे तो समझ लो ये तुम्हारे लिए सबसे बड़ा पाप है, ऐसे काम करो कि लोग तुम्हारे जाने के बाद दु:खी होकर आसूं बहाए तभी तुम्हें पुण्य मिलेगा ।                                  


     - मुनिश्री तरुण सागर जी