आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 04 Sep 2018 15:23:59


गुलाब कांटों में भी हंसता है गुलाब कांटों में भी हंसता है इसलिए लोग उसे प्रेम करते हैं, तुम भी ऐसे काम करो कि तुमसे नफरत करने वाले लोग भी तुमसे प्रेम करने पर विवश हो जायें।
                                                    

                                                      - मुनिश्री तरुण सागर जी