आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 23 Jan 2019 12:30:58

 

 


"ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं. हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिलेगी,  हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए."

                                       -     नेताजी सुभाष चन्द्र बोस