आज की अभिव्यक्ति

दिंनाक: 20 Feb 2019 13:09:56

 


 

रविदास’ जन्म के कारनै, होत न कोउ नीच,
नर कूँ नीच करि डारि है, ओछे करम की कीच

हिन्दी अर्थ :- रविदास जी कहते है कि सिर्फ जन्म लेने से कोई नीच नहीं बन जाता है। इंसान के कर्म ही उसे नीच बनाते है।