पीओजेके में वायु सेना की कार्रवाई पर विदेश सचिव की प्रेस वार्ता

दिंनाक: 26 Feb 2019 17:15:44


14 फरवरी को पुलवामा में पाक समर्थित जैश के आतंकियों ने आत्मघाती हमला किया था। जिसमें सीआरपीएफ के 40 वीर जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे। जैश ए मोहम्मद पाकिस्तान में पिछले दो दशकों से सक्रिय है, बहावलपुर में बैठकर अजहर मसूद आतंकी संगठन का नेतृत्व कर रहा है। यह आतंकी संगठन भारत में निरंतर आतंकी हमलों के लिए जिम्मेवार है, जैसे संसद पर आतंकी हमला, पठानकोट एयर बेस पर हमला व अन्य।


पाकिस्तान व पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर में आतंकी ट्रेनिंग कैंप के बारे में समय-समय पर पाकिस्तान के साथ जनकारी साझा की गई, लेकिन पाकिस्तान उनके अस्तित्व से इंकार करता रहा है। इतने बड़े स्तर पर आतंकी प्रशिक्षण कैंपों का संचालन पाकिस्तान सरकार की जानकारी के बिना संभव नहीं है। भारत बार-बार जैश ए मोहम्मद के खिलाफ कार्रवाई करने, और पाकिस्तान की सीमा में आतंकियों को प्रशिक्षित करने से रोकने का आग्रह कर चुका है। लेकिन पाकिस्तान ने अपनी भूमि पर पल रहे आतंक को समाप्त करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया।

पुख्ता इंटेलीजेंस इनपुट मिला था कि जैश ए मोहम्मद भारत के विभिन्न हिस्सों में अन्य आत्मघाती हमलों की योजना बना रहा है और इस कार्य के लिए फिदायीन जिहादियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। आतंकी खतरे को देखते हुए यह कार्रवाई आवश्यक हो गई थी, इनपुट को ध्यान में रखते हुए इंटेलीजेंस लेड ऑपरेशन में आज सुबह भारत ने बालाकोट में स्थित जैश ए मोहम्मद के सबसे बड़े आतंकी ट्रेनिंग कैंप पर हमला किया, कार्रवाई में आतंक का प्रशिक्षण ले रहे प्रशिक्षु, ट्रेनर, सीनियर कमांडर, प्रशिक्षित फिदायीन काफी संख्या में मारे गए। बालाकोट में यह कैंप मौलाना युसुफ अजहर उर्फ उस्ताद गौरी (मसूद अजहर का बहनोई) की देखरेख में चल रहा था।

भारत सरकार आतंकवाद से लड़ने व उसे समाप्त करने के लिए तत्पर है। इसलिए नॉन मिलिटरी प्रीएम्प्टिव एक्शन के तहत जैश ए मोहम्मद के कैंप को निशाना बनाया गया। किसी भी आम नागरिक को नुकसान न पहुंचे, इसका भी ध्यान रखा गया था। यह आतंकी कैंप एक पहाड़ी पर घने जंगल में स्थित था। कुछ देर पहले ही यह कार्रवाई की गई है, इसलिए इसके संबंध में अधिक जानकारी का इंतजार है।

2004 में पाकिस्तान सरकार ने वादा किया था कि उसके अधीन किसी भी क्षेत्र का आतंकी गतिविधियों के लिए उपयोग नहीं होने देगा, हम विश्वास करते हैं कि पाकिस्तान अपने वादे पर खरा उतरेगा तथा जैश ए मोहम्मद के आतंकी शिविरों को समाप्त करेगा और आतंकियों को उनके कृत्य की सजा देगा।