आयुर्वेदिक औषधियों का मानकीकरण एवं गुणवतत्ता परीक्षण विषय पर राष्ट्रीय कार्यशाला का शुभारम्भ

दिंनाक: 26 Feb 2019 17:17:36


भोपाल(विसंके). हम अपने लिये नहीं अपनों के लिये हैं, अपने वे हैं जो पीड़ित और उपेक्षित हैं।’’ इस ध्येय वाक्य के साथ रचनात्मक कार्यों के माध्यम से देश, समाज को अपना जीवन अर्पित करने वाले भारत रत्न राष्ट्ऱऋषि नानाजी की 9वीं पुण्यतिथि पर भारत सरकार, प्रादेशिक सरकारों एवं विविध गैर सरकारी संस्थाओं के माध्यम से विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी देश की विरासत प्रगति एवं विकास को प्रदर्शित करने वाली अनेकानेक प्रदर्शनी, ग्राम्यविकास मॉडल, सेमीनार, साहित्य एवं बौद्धिक प्रतियोगितायें सम्पन्न करायी जा रही हैं।


जिसमें भारत सरकार एवं विभिन्न प्रदेश सरकारों, निजी क्षेत्र के विभिन्न विभागों एवं लघु कुटीर उद्योगों के द्वारा आमजन के लिए ग्रामीण भारत की विशाल प्रदर्शनी लगायी गयी है। जिसके अन्तर्गत भारत सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं के अन्तर्गत जनजातीय कार्य मंत्रालय (ट्राइफेड), कृषि, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, सूक्ष्म-लघु एवं मध्यम उद्योग, कौशल विकास, ग्रामीण विकास, पंचायतीराज, स्वच्छ पेयजल एवं स्वच्छता, स्वच्छ गंगा मिशन, राष्ट्रीय मुक्त विश्वविध्यालय, उपभोक्ता, खाद्य प्रसंस्करण, स्वास्थ्य, रेलवे, राष्ट्रीय राज्य एवं परिवहन, पेट्रोलियम, विद्युत एवं नवीनीकृत उर्जा, जल संसाधन, तकनीकी शिक्षा एवं विज्ञान, इस्पात, रासायनिक उर्वरक, रक्षा, संस्कृति,श्राष्ट्रीय मुक्त विश्वविध्यालय, उ.प्र. निर्माण निगम, यूपीडा, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन, सीएसआईआर के अतिरिक्त खादी ग्रामोद्योग आयोग, औद्योगिक सहकारी संघ, के साथ ही लगभग 250 स्थानीय प्रतिनिधियों द्वारा क्षेत्र में उत्पादित जनोपयोगी वस्तुओं के साथ-साथ फूड कार्नर स्टार, मनोरंजन हेतु विभिन्न प्रकार के झूले भी आकर्षण का केन्द्र होंगे।


इस वर्ष इस मेले में केन्द्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों के अतिरिक्त उ.प्र., हरियाणा एवं गुजरात शासन की विशेष सहभागिता है। उल्लेखनीय है कि ग्रामोदय मेला-आदि ग्राम कुंभ में पहली बार जनजातीय कार्य मंत्रालय भारत सरकार की संस्था ट्राइफैड से जुडे लगभग 200 आदिवासी कलाकार 20 राज्यों से अपने हाथों से बनाई हस्त कला के नायाब उत्पादों के साथ प्रतिभाग कर रहे हैं, जिनको नगरवासियों द्वारा बेहद पसन्द किया जा रहा है।