विश्व में बढ़ा है भारत का मान – सम्मान – इंद्रेश कुमार

दिंनाक: 29 Apr 2019 16:34:38


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य इंद्रेश कुमार ने कहा कि यह लोकसभा चुनाव एक मेरिटोरियस तथा कई अनुत्तीर्ण लोगों के बीच का चुनाव है. वे जयपुर जन जागृति मंच की ओर से अजमेरी गेट के निकट स्थित राजस्थान चेंबर ऑफ कॉमर्स के भवन में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे.


“मतदान-राष्ट्र निर्माण” कार्यक्रम को संबोधित करते हुए इंद्रेश कुमार ने कहा कि वर्तमान में एक नया भारत बन रहा है. यह भारत पहले के जैसे गंदा नहीं है, अब स्वच्छ भारत दिखने लगा है. इस भारत में बेटी बोझ नहीं है, बेटी अब वरदान समझी जाने लगी. अब प्रदूषित भारत नहीं है, पर्यावरण वाला भारत बन रहा है.

उन्होंने कहा कि पिछले 5 वर्ष में सब कुछ हो गया, यह कहना ठीक नहीं है. किंतु कुछ भी नहीं हुआ, यह कहना भी गलत है. कांग्रेस पार्टी ने हिन्दू एवं भगवा को आतंकवादी कहा है. वर्दी को अत्याचारी कहा. वे देशद्रोहियों को छोड़ने की बात कहते हैं, एक देश में दो प्रधानमंत्री की बात कहते हैं. इसे भारत सहन नहीं करेगा.

इंद्रेश कुमार ने कहा कि केंद्र की वर्तमान सरकार के कारण पूरा विश्व योग और गीता को आदर की दृष्टि से देखने लगा है. बालाकोट की घटना के बाद पूरे भारत में जश्न मनाया गया. पूरा विश्व भारत के साथ खड़ा रहा. यूरोप, अमेरिका और चीन भारत के साथ रहे. मुस्लिम देशों के संगठन से पाकिस्तान बाहर हुआ और वहां भी भारत का सम्मान बढ़ा.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने देश को आजादी दिलाई, यह बहुत बड़ा झूठ है. देश को आजादी महाराणा प्रताप, शिवाजी, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई, तात्या टोपे, चंद्रशेखर आजाद, लोकमान्य तिलक, सावरकर, सुभाष चंद्र बोस, लाला लाजपत राय, महात्मा गांधी, भगत सिंह जैसे लाखों लोगों के बलिदान एवं त्याग के कारण मिली. कांग्रेस पार्टी ने जिन्ना के साथ मिलकर देश के टुकड़े करवा दिए. उन्होंने कहा कि जन्म आधारित जाति व्यवस्था मानना ठीक नहीं है. हमारे यहां कर्म आधारित व्यवस्था रही है. कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. रमेश चंद्र अग्रवाल ने की. आभार प्रदर्शन कर्नल धनेश गोयल ने किया. कार्यक्रम के प्रारंभ में सनातन संस्कृति की अवधारणा ‘सर्वे भवंतु सुखिनः” को साकार करते हुए पक्षियों की जल व्यवस्था हेतु परिंडे लगाए गए. समापन पर अपना संस्थान की ओर से इंद्रेश कुमार जी को पक्षी आवास घौंसले भी भेंट किए गए.