शिशु मंदिरों में संपन्न होगा विद्यारम्भ संस्कार कार्यक्रम

दिंनाक: 29 Jan 2020 17:49:00


30 हजार से अधिक भैया-बहिनों की सहभागिता होगी।

भोपाल- विद्याभारती मध्यभारत द्वारा 16 जिलों में संचालित सरस्वती शिशु मंदिरों में वसंत पंचमी पर 3 से 5 वर्ष आयु समूह के 30 हजार से अधिक भैया-बहिनों का विद्यारम्भ संस्कार आयोजित होगा।
भारतीय जीवन दर्शन में मनुष्य की जीवन यात्रा जन्म से मृत्यु पर्यंत निरंतर चलती रहती है। इस यात्रा में मनुष्य को अनेक स्थितियों का सामना करना पड़ता है। जीवन की इन बदलती स्थितियों में जीवन निर्वाह को सुखमय और आनंदमय बनाने के लिए प्राचीन ऋषि-मुनियों ने कुछ विधि विधान बताए हैं, शास्त्रों में इन नियमों को संस्कार नाम दिया है! मनुष्य जीवन में ऐसे 16

संस्कारों का शास्त्रों में प्रावधान है, उनमें से एक संस्कार है- ‘‘विद्यारंभ संस्कार’’।
विद्या भारती मध्यभारत प्रान्त के प्रमुख डाॅ. रामकुमार भावसार ने एक जानकारी में बताया कि हमारे देश में मां सरस्वती के प्राकट्य दिवस ‘वसंत पंचमी’ पर सरस्वती पूजन कर एक उत्सव के रूप में मनाने की परंपरा है। इस अवसर पर विद्या भारती मध्य भारत प्रान्त द्वारा 16 जिलों में चलने वाले अपने सरस्वती शिशु मंदिरों में विद्यारंभ संस्कार कार्यक्रम करने की योजना की है
इस कार्यक्रम में 3 वर्ष से 5 वर्ष की आयु समूह के 30,000 से अधिक भैया बहिनों का विद्यारंभ संस्कार होगा! विद्यारम्भ संस्कार कार्यक्रम में ग्वालियर-1624, भिण्ड-1766, मुरैना-1803, दतिया-1573, शिवपुरी-1942, श्योपुर-418, अशोकनगर-1108, गुना-2112, सीहोर- 1419, राजगढ़-5719, भोपाल-2157, विदिशा-2232, रायसेन-1305, होशंगाबाद- 1408, हरदा- 1721, बैतूल -1876 भैया-बहिनों की सहभागी होगी। इसमें प्रत्येक भैया बहिन के साथ उनके माता-पिता को आमंत्रित किया गया है

यज्ञ- पूजन और विधि-विधान से कार्यक्रम के आयोजन हेतु प्रान्त के प्रत्येक विद्यालय में स्थानीय प्रबंध समिति, आचार्य परिवार, पूर्व छात्र एवं वर्तमान अभिभावक व्यवस्थाओं में जुटे हैं


विद्याभारती के सरस्वती शिशु मंदिरों की एक विशेषता है वहां की संस्कारप्रद शिक्षा! अनेक शिक्षाविदों और दार्शनिकों का मत है कि बच्चों को संस्कार शिशु अवस्था में ही प्राप्त हो सकते हैं! इसलिये विद्या भारती के विद्यालयों में छोटे भैया-बहनों को संस्कार देने के लिए 12 शैक्षिक व्यवस्थाओं के आधार पर शिशुवाटिका का संचालन किया जाता है! इस कार्यक्रम में प्रत्येक विद्यालय में इन व्यवस्थाओं को लेकर भी एक प्रदर्शनी लगाई जा रही है जिससे कार्यक्रम में सम्मिलित होने वाले अभिभावक अपने बच्चों की शिक्षा कैसी हो? इस बारे में अवगत हो सकेंगे !
विद्याभारती मध्यभारत प्रान्त के सर्वश्री शिरोमणि दुबे (गुना) श्री कांतिलाल चतर (भोपाल) श्री मोहनलाल गुप्ता (भोपाल) एवं श्री सुजीत शर्मा (हरदा) सहित अन्य पदाधिकारियों ने जनसामान्य से इस आयोजन में अपने शिशुओं सहित शामिल होने का आग्रह किया है