तंबाकू मुक्त चित्रकूट के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान द्वारा लोगो को तंबाकू सेवन छोड़ने को करें प्रेरित - अभय महाजन

दिंनाक: 14 Sep 2020 12:47:10


 
 
 
दीनदयाल शोध संस्थान एवं सलाम मुंबई फाउंडेशन द्वारा "तम्बाकू मुक्त विद्यालय" पर वेबीनार सम्पन्न
 
चित्रकूट: छात्रों को "तंबाकू छोड़िए-अच्छी सेहत से जुड़िये" इसके लिए अभिभावकों सहित अपने आसपास के लोगों को बताएं कि तंबाकू सेवन से कौन-कौन सी बीमारियां दस्तक देती हैं और उससे शरीर में कौन कौन से रोग पैदा होते हैं जो लाइलाज होते हैं। वहीं सभी लोगों को बताएं कि तंबाकू सेवन ना करें और रोगों से छुटकारा पाएं। सभी को कहा गया कि इसका व्यापक प्रचार-प्रसार अपने गांव टोले मोहल्ले में करें। ताकि, लोग तंबाकू का सेवन ना करें और तंबाकू मुक्त चित्रकूट बनाया जा सके। उपरोक्त बातें दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने "तम्बाकू मुक्त विद्यालय" पर आयोजित वेबीनार में अपने वक्तव्य में कहीं।
 
दीनदयाल शोध संस्थान एवं सलाम मुंबई फाउंडेशन द्वारा "तम्बाकू मुक्त विद्यालय" पर एक दिवसीय वेबीनार का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य रुप से दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन, ADPC शिक्षा सतना गिरीश अग्निहोत्री, मेडिकल ऑफिसर डॉ. अफसर अली एवं सलाम मुंबई फाउंडेशन के दीपक पाटिल, दीनदयाल शोध संस्थान के सचिव डॉ. अशोक पांडे, उप महाप्रबंधक डाॅ. अनिल जायसवाल, रिसोर्स सेन्टर प्रभारी विनीत श्रीवास्तव, आरोग्यधाम के वरिष्ठ डेंटिस्ट डाॅ. वरुण गुप्ता एवं दीनदयाल शोध संस्थान के समस्त शिक्षण प्रकल्प के अध्यापक, प्राध्यापक साथ ही चित्रकूट क्षेत्र के समस्त शिक्षक, समाज शिल्पी दंपत्ति मौजूद रहे। वेबीनार का संचालन राजेंद्र सिंह द्वारा की गया व अतिथियों का परिचय कराया गया।
 
दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन द्वारा दीनदयाल शोध संस्थान के द्वारा तंबाकू मुक्त विद्यालय परिसर बनाने में योगदान की चर्चा की एवं ग्रामीण क्षेत्रों में किस प्रकार हम जागरूकता अभियान द्वारा लोगो को तंबाकू सेवन छोड़ने को प्रेरित कर सकते इस पर भी चर्चा की।
 
इस वेबीनार के मुख्य अतिथि गिरीश अग्निहोत्री ADPC शिक्षा सतना द्वारा बताया गया कि कोरोना के चलते पिछले 6 महीनों से हम छात्रों से मिल नहीं पा रहे थे वह उनकी समस्याएं वर्चुअल माध्यमों से सुनकर समाधान कर रहे थे। उन्होंने बताया कि तंबाकू से स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य पर भी काफी असर पड़ता है एवं छात्रों में तंबाकू का सेवन दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, छात्रों में इसे रोकने की तथा उन्हें इसके दुष्प्रभावों के बारे में बताना एवं जागरूक करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि आज भी कई इलाकों में अतिथियों के स्वागत में तंबाकू सेवन की परंपरा है, जिसे बदलना होगा, क्योंकि बच्चे अभिभावक और अपने बड़ों को देखकर ही तंबाकू का सेवन प्रारंभ करते हैं और इसकी लत में आ जाते हैं। 
 
इसके पश्चात डॉ अशोक पांडे सचिव दीनदयाल शोध संस्थान ने तंबाकू के दुष्प्रभाव के बारे में विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि किस प्रकार इससे अनेक बीमारियां होती हैं, हमें इनसे हर हाल में बचना ही चाहिए। उन्होंने बताया कि सलाम मुंबई फाउंडेशन व दीनदयाल शोध संस्थान के प्रयास से चित्रकूट क्षेत्र में स्थित समस्त विद्यालयों के आसपास से गुटका तंबाकू बेचने वाली दुकानें हटाई जा चुकी हैं तथा 60 विद्यालय पूरी तरह नशा मुक्त किए गए हैं। साथियों ने बताया कि गांव के बच्चों में जागरूकता एवं शिक्षा की कमी के कारण तंबाकू का सेवन अधिक मात्रा में होता था, इसलिए गांव में जाकर उनको जागरूक किया गया, साथ ही उनके अभिभावक को बताया गया कि आप भी तंबाकू का सेवन ना करें क्योंकि बच्चे अधिकतर अपने अभिभावक को देखकर ही तंबाकू सेवन प्रारंभ करते हैं, वह धीरे-धीरे इसके आदी हो जाते हैं।
 
इस दौरान दीपक पाटिल सलाम मुंबई फाउंडेशन, मुंबई द्वारा बताया गया कि भारत सरकार के "नशा मुक्त भारत अभियान" के तहत किस प्रकार भारत को नशे की आदत से मुक्त कराने का प्रयास चल रहा है। साथ ही उन्होंने बताया कि सलाम मुंबई फाउंडेशन द्वारा विद्यालयों एवं शिक्षकों को तंबाकू मुक्त परिसर बनाने में मदद की जाती है साथ ही विद्यालय परिसर के आसपास किसी भी प्रकार की गुटका तंबाकू बेचने वाली दुकानों को हटाया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि भारत युवाओं का देश है परंतु आज का 15 % युवा तंबाकू व गुटके की लत में है। साथ ही  उन्होंने बताया कि हर 16 सेकंड में एक बच्चा तंबाकू सेवन शुरू करता है वह हर दिन तंबाकू के सेवन से लगभग 3500 लोगों की मृत्यु होती है, तंबाकू का सेवन एक महामारी की तरह हैं जो ज्यादातर स्कूल जाने वाले बच्चे इसके शिकार में आते है। साथ ही उन्होंने भारत सरकार द्वारा तंबाखू मुक्त विद्यालय परिसर के क्राइटेरिया का भी वर्णन किया तथा उन्होंने "टोबैको फ्री स्कूल एप" की विशेषताओं एवं उपयोग का वर्णन किया।
 
वेबीनार के विषयों के संबंध में किसी को शंका ना हो इसके समाधान हेतु विनीत श्रीवास्तव द्वारा समाधान सत्र में समस्त जिज्ञासाओं का निवारण किया गया।
 
डॉ. वरुण गुप्ता डेंटिस्ट आरोग्यधाम द्वारा अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया गया, उन्होंने बताया कि तंबाकू के सेवन से किस प्रकार मुंह की अनेक बीमारियां होती हैं, यहां तक की कैंसर तक की समस्या पैदा होती है।
 
वेबीनार के अंत में सलाम मुंबई फाउंडेशन द्वारा तंबाकू के दुष्प्रभाव पर एक फिल्म का प्रदर्शन किया गया।