उत्सव/त्यौहार

शिवालय हमारे प्रदेश के - महाशिवरात्री

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् भोपाल(विसंके). प्रतिवर्ष माघ बहुल चतुर्दशी के दिन शिवरात्री मनाया जाता है. कहा जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव हर मंदिर में लिंग रूप में प्रत्यक्ष होते हैं..

26 जनवरी / 69वाँ गणतंत्र दिवस

भोपाल(विसंके). यह भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है. 26 जनवरी, 1950 को देश का संविधान लागू हुआ था. आजादी मिलने के बाद तत्कालीन सरकार ने देश की संविधान सभा का गठन किया जिसकी अध्यक्षता डॉ. भीमराव अम्बेडकर को मिली. 25 नवम्बर, 1949 को 211 विद्वानों  द्वारा 2 ..

गणतंत्र दिवस का बच्‍चों को समर्पित होना : डॉ. निवेदिता शर्मा

भोपाल(विसंके). भारत अपने गण का 69 वां दिवस मना रहा है।  इसी दिन सन् 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट 1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। वस्‍तुत: यह सर्वविदित है कि एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए..

नेताजी सुभाषचन्द्र बोस / जन्म दिन – 23 जनवरी

स्वतन्त्रता आन्दोलन के दिनों में जिनकी एक पुकार पर हजारों महिलाओं ने अपने कीमती गहने अर्पित कर दिये, जिनके आह्नान पर हजारों युवक और युवतियाँ आजाद हिन्द फौज में भर्ती हो गये, उन नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का जन्म उड़ीसा की राजधानी कटक के एक मध्यमवर्गीय परिवार ..

ऋतुराज के स्वागत का पर्व है बसंतोत्सव - डॉ. सूर्यकांत मिश्रा

भोपाल(विसंके). बसंत पंचमी का पर्व जीवन में सकारात्मक पतिवर्तन लाने का परिचायक है. यह परिवर्तन आनंद, उल्लास और नई उमंग प्रसारित करता है. बसंत ऋतु अति विशिष्ट है, इसलिए इसे ऋतुराज कहा जाता है. इस ऋतु का आगमन मन में नए जीवन का संचार करता है. इसी दिन माँ सरस्..

प्रवासी दिवस (9 जनवरी) पर विशेष -विश्व बंधुत्व: हिंदुत्व

पश्चिम की तरफ नजर डालें या दक्षिण एशिया की तरफ, सऊदी अरब को देखें या रूस को, हर तरफ हिन्दू संस्कृति की छाप दिखाई देती है।  प्रवासी भारतीय इस संस्कृति के राजदूत हैं  उनकी  अगुवाई में कुछ लोग टाइम्स स्क्वयार पर कृष्ण भक्त हरि नाम संकीर्तन करत..

आज है कार्तिक पूर्णिमा, जानिए कार्तिक पूर्णिमा का महत्व

साल में कुल 12 पूर्णिमा होती है जिनमें कार्तिक महीने की पूर्णिमा का सबसे अधिक महत्व है। माना जाता है कि इस दिन गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्ण, नर्मदा इन पवित्र नदियों में स्नान करके जप, तप, ध्यान योग और दान करने से अन्य तिथियों में किए गए दान पुण्य से अधिक..

शरद पूर्णिमा आज

शरद पूर्णिमा- हिन्दू पंचांग के अनुसार अश्विन मास की पूर्णिमा को कहते हैं। ज्‍योतिष के अनुसार, पूरे साल में केवल इसी दिन चन्द्रमा सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है। हिन्दू धर्म में इस दिन कोजागर व्रत माना गया है। इसी दिन श्रीकृष..

आज है नवरात्रि का प्रथम दिन/ माँ शैलपुत्री का दिन

दुर्गा के पहले स्वरूप में शैलपुत्री मानव के मन पर अधिपत्य रखती हैं। चंद्रमा पर आधिपत्य रखने वाली शैलपुत्री जीव की उस नवजात शिशु की अवस्था को संबोधित करतीं हैं जो अबोध, निष्पाप व निर्मल है। देवी शैलपुत्री मूलतः महादेव कि अर्धांगिनी पार्वती ही है। देवी पार्वती पूर्वजन्म में दक्ष प्रजापति की पुत्री सती थीं तथा उस जन्म में भी वे महादेव की ही पत्नी थीं। सती ने अपने पिता दक्ष के यज्ञ में, महादेव का अपमान न सह पाने के कारण, स्वयं को योगाग्नि में भस्म कर दिया था तथा हिमनरेश हिमावन के घर पार्वती बन कर अवतरित ..

आज है नागपंचमी

प्रत्येक वर्ष सावन महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन नागपंचमी मनाई जाती है, और इस साल सावन महीने की 27 जुलाई याने आज नागपंचमी है । नागपंचमी के दिन नाग देवता की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है और कहा जाता है कि इस दिन सांपों की पूजा करने से नाग देवता प..

आर्य समाज स्थापना दिवस / 10 अप्रैल

भारत में एक समय वह भी था, जब लोग कर्मकाण्ड को ही हिन्दू धर्म का पर्याय मानने लगे थे। वे धर्म के सही अर्थ से दूर हट गये थे। इसका लाभ उठाकर मिशनरी संस्थाएँ हिन्दुओं के धर्मान्तरण में सक्रिय हो गयीं। भारत पर अनाधिकृत कब्जा किये अंग्रेज उन्हें पूरा सहयोग दे रहे थे। यह देखकर स्वामी दयानन्द सरस्वती ने 10 अप्रैल, 1875 (चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, नव संवत्सर) के  शुभ अवसर पर मुम्बई में ‘आर्य समाज’ की स्थापना की। आर्य समाज ने धर्मान्तरण की गति को रोककर परावर्तन की लहर चलायी। इसके साथ ..