समाचार

यहूदी से हिंदू बनने की मेरी यात्रा – डेना मरियम

जब मैं सोचने लगती हूं कि हिंदू होने का मतलब आखिर क्या है, तो यही पाती हूं कि यह धर्म आधारित जीने का तरीका है। यह दुनियाभर के नियम निर्देशन के अनुरूप है। यह हमें ब्रह्मांड और खुद के साथ सामंजस्य बैठाने में मदद करता है.  मेरा जन्म न्यूयॉर्क के एक पंथन..

शाश्वत हिंदू राष्ट्र दरअसल है क्या? - डॉ. मनमोहन जी वैद्य

इन दिनों हिंदू और राष्ट्रवाद जैसे शब्दों पर जोरदार विमर्श और बहस सुनने को मिल रही है। हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्रत्व के संबंध में यह उलझाव, उनके अंतर्निहित भारतीय संदर्भ को समझे बिना, उन्हें पश्चिमी मानकों से मापने के कारण हो रहा है राष्ट्र-राज्य की अवधारण..

भविष्य का भारत – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण

तीन दिवसीय व्याख्यानमाला का अंतिम दिन, प्रश्नोत्तर सत्र राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत ने भारत के समाज में सामाजिक विषमता को बढ़ाने वाली सभी बातों का समूल नाश करने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि आरक्षण की व्यवस्था तब तक जारी रहन..

समाज परिवर्तन का आंदोलन है संघ - दीपक जी विस्पुते

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का महाविद्यालयीन विद्यार्थी संघ शिक्षा वर्ग (प्रथम वर्ष) के प्रकट समारोह को प्रख्यात अभिनेता श्री राजीव वर्मा और मध्य क्षेत्र प्रचारक श्री दीपक विस्पुते ने किया संबोधित भोपाल(विसंके). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समाज परिवर्तन का आंदोल..

महिलाएं न देवी हैं, न दासी, वे राष्ट्र के विकास में पुरूषों की बराबर की साझीदार और हिस्सेदार हैं - डॉ. मोहन भागवत जी (सरसंघचालक)

नई दिल्ली, 18 सितम्बर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक प.पू. श्री मोहनराव भागवत ने हिन्दुत्व की संकल्पन को स्पष्ट करते हुए कहा, कि हिन्दुत्व अर्थात पावन जीवन मूल्यों का समुच्चय, यह इस देश का आधार और प्राण है, इसी के आधार पर समतायुक्त, शोषणमुक्त समाज ..

हम संघ का वर्चस्व नहीं चाहते : सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत

विसंकें। हम संघ का वर्चस्व नहीं चाहते। हम समाज का वर्चस्व चाहते हैं। समाज में अच्छे कामों के लिए संघ के वर्चस्व की आवश्यकता पड़े, संघ इस स्थिति को वांछित नहीं मानता। अपितु समाज के सकारात्मक कार्य समाज के सामान्य लोगों द्वारा ही पूरे किए जा सकें, यही संघ..

''कई बालगृहों में जोर-जबरदस्ती से किया जाता है कन्वर्जन''

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित एवं दुनिया के प्रख्यात बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी मानते हैं कि रांची के मिशनरीज ऑफ चैरिटी पर लगे आरोप बेहद गंभीर एवं आपराधिक हैं। अगर जांच में ये आरोप सत्य प्रमाणित होते हैं तो उस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी च..

सरस्वती विद्यापीठ आवासीय विद्यालय में 31वीं प्रान्तीय बैडमिंटन प्रतियोगिता का शुभारंभ

भोपाल(विसंके). विद्याभारती के खेलकूद समारोह के अंतर्गत 31वीं प्रान्तीय बैडमिंटन प्रतियोगिता का शुभारंभ सरस्वती विद्यापीठ आवासीय विद्यालय, शिवपुरी में किया गया । जिसमें मध्यभारत प्रान्त के अंतर्गत आने वाले विभागों शिवपुरी, भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर से खि..

लोक परंपरा, लोकगीतों को सहजें : श्री पवैया

भोपाल(विसंके).  उच्चशिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने शिक्षाविद और प्रबुद्धजनों से आव्हान किया कि वे लोक परंपरा, लोकगीतों को सहजने के लिए प्रयास करें| ये प्राय: लुप्त होते जा रहे हैं| हमारी संस्कृति में प्राथक्य के बीज बोये जा रहे है और बाँधने क..

स्वामी विवेकानंद ने विश्व बंधुत्व का विचार सबके सम्मुख रखा था – डॉ. मनमोहन वैद्य

कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तुलना ‘मुस्लिम ब्रदरहुड’ के साथ करने पर संघ से परिचित और राष्ट्रीय विचार के लोगों आश्चर्य होना स्वाभाविक है. भारत के वामपंथी, माओवादी और क्षुद्र राजनीतिक स्वार्थ के लिए राष्ट..

विश्व को धर्म व एकता का संदेश देने का दायित्व भारत का है – डॉ. मोहन भागवत जी

शिकागो. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि हम विश्व को उत्तम बनाना चाहते हैं और हमारी प्रभुत्व की कोई आकांक्षा भी नहीं है. पूर्व में विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में हिन्दू साम्राज्य थे, उन पर हिन्दू संस्कृति का प्रभाव आज भी वि..

भारत का अध्यात्म एवं दर्शन ही भारत का परिचय है – डॉ. मनमोहन वैद्य जी

जबलपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य जी ने कहा कि भारत की मूल धारा अध्यात्म है, इसलिए हिन्दू समाज में सबके प्रति स्वीकार्यता है. ये प्राचीन भारतीय दर्शन का सार है. धर्म एक विशुद्ध भारतीय शब्द है, जिसका अर्थ पूजा पद्ध..

‘कुंभ मेला’ भारतीय जीवन का प्रतीक – सुरेश भय्याजी जोशी

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि कुंभ मेला भारतीय जीवन का प्रतीक है. जनवरी माह से आयोजित होने वाले कुंभ मेले में पवित्र स्नान कर सभी को लाभ उठाना चाहिए. भारतीय संस्कृति और परंपरा के अनोखे संगम संस्कृति कु..

सरस्वती विद्यापीठ में किया गया बाल संचालित विद्यालय एवं आचार्य सम्मान समारोह

भोपाल(विसंके). डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती शिक्षक दिवस के अवसर पर सरस्वती विद्यापीठ आवासीय विद्यालय  बाल संचालित रहा जिसमें कक्षा 12 के भैया अजय पटेल व्यवस्थापक, भैया अभिषेक यादव प्राचार्य तथा उनके सहयोग के रूप में भैया बलराम गुर्जर पुस्तकालय प..

शहरी कनेक्शन टूटने पर ही नक्सली खत्म हो पाएंगे – फारूख अली

नई दिल्ली. दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में know your Urban Naxal, कार्यक्रम आयोजित किया गया. कार्यक्रम में नक्सलियों के शहरी नेटवर्क के बारे में बताया गया. कुछ दिन पहले महाराष्ट्र पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया था. अर्बन नक्सल, शब्द उस..

जल व पर्यावरण संरक्षण के लिये समाज व्यापी जनांदोलन खड़ा करेंगे – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

भोपाल(विसंके). मंत्रालयम्. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य जी ने कहा कि केरल में बाढ़ की आपदा से निपटने के लिए सेवा भारती के प्रयासों के साथ पूरा देश खड़ा होगा. केरल में सेवा भारती द्वारा बाढ़ राहत कार्य के तहत 300 राहत शिविरों म..

पूज्य मुनिश्री तरूणसागर जी महाराज को विनम्र श्रद्धांजलि

युगद्रष्टा, क्रांतिकारी राष्ट्रसंत पूज्य मुनिश्री तरूणसागर जी महाराज का समाधि सल्लेखना पूर्वक देवलोकगमन हम सबके लिए अतीव वेदनादायक है. उनका अचानक अति अल्पायु में हम सब के बीच में से जाना पूरे देश, धर्म व समाज के लिए विशेषकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए ..

पूज्य मुनिश्री तरूणसागर जी महाराज को विनम्र श्रद्धांजलि

भोपाल(विसंके). युगद्रष्टा, क्रांतिकारी राष्ट्रसंत पूज्य मुनिश्री तरूणसागर जी महाराज का समाधि सल्लेखना पूर्वक देवलोकगमन हम सबके लिए अतीव वेदनादायक है. उनका अचानक अति अल्पायु में हम सब के बीच में से जाना पूरे देश, धर्म व समाज के लिए विशेषकर राष्ट्रीय स्वयंस..

नहीं रहे राष्ट्रसंत मुनिश्री तरुण सागर जी, दिल्ली में ली अंतिम सांस

भोपाल(विसंके). राष्ट्रसंत मुनिश्री तरुण सागर जी आज तड़के शाहदरा (दिल्ली) के कृष्णा नगर में देवलोकगमन कर गए. बताया जा रहा है कि वो पिछले कई दिनों से पीलिया की बीमारी से ग्रसित थे, और उन्हें इलाज के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहाँ पर दवाओं न..

अर्बन नक्सलियों में माओवादियों की जान

भोपाल(विसंके). अगस्त 2008 में बिहार में भयानक बाढ़ आई थी. बताया गया था कि नेपाल का कुसहा बांध टूटने की वजह से यह बाढ़ आई है. यही वह साल था, जब पहली बार मेरा परिचय ‘अर्बन नक्सल’ यानि शहरी नक्सलवाद शब्द से हुआ था. बिहार में बाढ़ का पानी उतर चुका..

दिल्ली के ब्रह्मपुरी में हिन्दू क्यों कर रहे पलायन?

भोपाल(विसंके). उत्तर प्रदेश का कैराना याद है न, वही कैराना जहां से हिन्दुओं के पलायन का मुद्दा उठा था और देखते ही देखते राष्ट्रीय विमर्श का विषय बन गया था. मुसलमानों की बढ़ती आबादी व क्षेत्र में हो रही गुंडागर्दी के कारण वहां से बड़ी संख्या में हिन्दू पला..

बालिका हिंसा रोकने के लिए जनजागरण अभियान

भोपाल(विसंके). ‘‘मैं ईश्वर को साक्षी मानकर ये संकल्प लेता हूं कि मेरे संपर्क में आने वाली बालिकाओं का सम्मान करूंगा। मैं स्वयं बालिकाओं के प्रति क्रूरता, हिंसा, अभद्रता और असमान व्यवहार नहीं करूंगा और न ही करने दूंगा। मैं समाज में स्वस्थ्य वात..

ग्लैमर नहीं, ज्ञान को देखकर आईए - आलोक मेहता

भोपाल(विसंके). वरिष्‍ठ पत्रकार पद्मश्री आलोक मेहता ने कहा कि मीडिया में जाने वाले विद्यार्थियों को ग्‍लैमर देख कर के इस क्षेत्र में नहीं जाना चाहिए। बल्कि ज्ञान को ध्‍यान में रखकर आना चाहिए। टीवी, रेडियो और प्रिंट मीडिया एक-दूसरे के प्रति..

पेड और फेक न्यूज़ से राजनीतिक दल भी चिंतित - श्री रावत

भोपाल(विसंके). देश के मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त श्री ओ.पी.रावत ने कहा कि आज मीडिया ही चुनाव पर छाया हुआ है। विश्‍वभर के प्रजातंत्र देशों में जनमत को किस तरह से 'डाटा हार्वेस्टिंग' करके प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है, इसके उदाहरण हमारे सामने है..

तीन दिन तक समाज के प्रबुद्धजनों के साथ संवाद करेंगे सरसंघचालक

नई दिल्ली. सितंबर 17, 18, 19 को दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, दिल्ली प्रांत की ओर से तीन दिवसीय व्याख्यान माला का आयोजन विज्ञान भवन में किया जा रहा है. जिसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों के संदर्भ..

संस्कृत सभी भाषाओं की जननी - महर्षि कात्यायन

भोपाल(विसंके). पच्चीस भाषाओं के जानकार महर्षि अभय कात्यायन ने कहा कि संस्कृत ही विश्व की समस्त भाषाओं की जननी है। संस्कृत को सीखने के बाद हम दुनिया की किसी भी भाषा को सीख सकते हैं। संस्कृत भाषा ने ही कैलेण्डर दिया। इस भाषा के महत्व के कारण ही इंग्लैंड में..

पं. अटल बिहारी बाजपेयी जी को चित्रकूट नगरवासियों की ओर से उद्यमिता विद्यापीठ दीनदयाल शोध संस्थान परिसर चित्रकूट में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया

भोपाल(विसंके). विचारों के संगम हर दिल अजीज समदृष्टि का भाव रखने वाले अजातशत्रु जननायक प्रखर वक्ता भारत रत्न पं. अटल बिहारी बाजपेयी जी को चित्रकूट नगरवासियों की ओर से उद्यमिता विद्यापीठ दीनदयाल शोध संस्थान परिसर चित्रकूट में श्रद्धा सुमन अर्पित करने हेतु श..

शिक्षा क्षेत्र में रोशनलाल जी के अतुलनीय योगदान को श्रृद्धांजलि सभा में स्मरण किया

भोपाल(विसंके). रोशनलाल जी अध्ययनशील और प्रतिभाशाली व्यक्तित्व थे। वह स्वयंसेवकों और कार्यकर्ताओं को गढऩे का काम करते थे। पिता तुल्य वह स्वयंसेवकों की और उनके परिवार की भी चिंता करते थे। मध्य भारत में शिक्षा के क्षेत्र में उनका अतुलनीय योगदान रहा है। विगत ..

हमें विश्व को प्रकाश देने वाला आदर्श बनना है – डॉ. मोहन भागवत जी

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत को धर्म का अधिष्ठान है. यह देश भविष्य में विश्व शक्ति बनेगा. विश्व में अनेक राष्ट्र आए और गए. परंतु, भारत जैसा था, वैसा ही है. भारत का यह सनातन धर्म है, जिसे हिन्दुत्व ..

‘रास्ते में बिछी थीं लाशें’

भोपाल(विसंके). बंटवारे के दिनों के बारे में जब भी सोचता हूं तो एक अजीब सी उलझन होने लगती है. उन दिनों पाकिस्तान में जहां भी हिन्दू रह रहे थे, वे सभी डरे हुए थे कि कब क्या हो जाए. मेरी माता जी का देहांत हो जाने के कारण मेरा लालन-पालन बुआ जी के पास हुआ. तब ..

आठ वर्षीय मासूम से दुष्कर्म करने वाले इरफान और आसिफ को फांसी

भोपाल(विसंके). मंदसौर की एक विशेष अदालत ने 26 जून को आठ वर्षीय स्कूली छात्रा का अपहरण कर उसके साथ सामूहिक बलात्कार करने के दोनों आरोपियों इरफान (20) एवं आसिफ (24) को दोषी करार देेते हुए फांसी की सजा सुनाई है। विशेष न्यायाधीश निशा गुप्ता ने दोनों आरोपितों..

‘स्वयंसेवकों ने दिया सेना का साथ’

भोपाल(विसंके). विभाजन के समय मेरी आयु 7 वर्ष की थी. मैं मीरपुर में रहता था. यह बड़ा ही समृद्ध और पढ़े-लिखे लोगों का इलाका था. 15 अगस्त, 1947 को जब विभाजन के कारण पाकिस्तान से हिन्दू भारत आ रहे थे, उस समय मीरपुर के लोगों को आशा थी कि जम्मू-कश्मीर राज्य के रा..

‘देवदूत थे स्वयंसेवक’

भोपाल(विसंके). बंटवारे की त्रासदी सात दशक बाद भी भूले नहीं भूलती. जब हिन्दू मां-बहनों पर खुलेआम आततायी मुसलमानों द्वारा अत्याचार किया जा रहा था, घर-दुकान, व्यवसाय को तहस-नहस करके परिवार के परिवार मौत के घाट उतार दिए जा रहे थे. यहां तक कि गर्भवती महिलाओं त..

पशु तस्करी के मुनाफे का इस्तेमाल होता है आतंकी गतिविधियों में

झारखण्ड में पशु तस्करी कोई नई बात नहीं है। पश्चिमी और अरब देशों में बीफ की भारी खपत ने इस अवैध कारोबार को एक वैश्विक आयाम प्रदान किया है। इस धंधे के साझेदार दुनिया भर में है और रसूखदार भी हैं। इस काम से होने वाले मुनाफे का एक बड़ा हिस्सा आतंकी गतिविधियों ..

केरल में बाढ़ विभीषिका पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह जी का आह्वान –

केरल राज्य एक अभूतपूर्व, अप्रत्याशित बाढ़ की विभीषिका का सामना कर रहा है, जिसमें सैकड़ों लोगों की जानें जा चुकी हैं. हजारों लोगों को बेघर होना पड़ा है और लाखों लोग अनेक स्थानों पर फंसे हुए हैं. केरल राज्य आज एक भयानक संकट के कगार पर है. अनेक बाधाओं के बावज..

केरल : सेवा के अग्रिम मोर्चों पर पहुंचे संघ के स्वयंसेवक - नरेन्द्र सहगल

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हजारों स्वयंसेवक अपनी जान को हथेली पर रखकर केरल में बाढ़ पीड़ितों की सहायता में दिनरात एक किए हुए हैं. इन स्वयंसेवकों ने दूरदराज के ग्रामीण बाढ़ग्रस्त इलाकों में जाकर सेना के जवानों, अर्धसैनिक बलों और स्थानीय पुलिस का सहयोग कर..

आंखों से बोलते थे अटल जी – प्रवीण गुगनानी

भोपाल(विसंके). प्रसिद्ध दार्शनिक सुकरात ने कहा था कि “जिस देश का राजा कवि होगा उस देश में कोई दुखी न होगा” – अटल जी के प्रधानमंत्रित्व काल में यह बात चरितार्थ हो रही थी. स्वातंत्र्योत्तर भारत के नेताओं में कुछ ही ऐसे नेता हुए हैं जो विपक..

‘सर्वांग स्वतंत्रता/सर्वांगीण विकास’ की ओर संघ के बढ़ते कदम - नरेन्द्र सहगल

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 16 (अंतिम) भोपाल(विसंके). 15 अगस्त 1947 को देश दो भागों में विभक्त हो गया. ‘इंडिया दैट इज़ भारत’ और ‘पाकिस्तान’. भारत को राजनीतिक स्वतंत्रत..

वे पन्द्रह दिन – समापन, 15 अगस्त के बाद… - प्रशांत पोल

भारत तो स्वतंत्र हो गया. विभाजित होकर..! परन्तु अब आगे क्या..? भोपाल(विसंके). दुर्भाग्य से गांधी जी ने मुस्लिम लीग के बारे में जो मासूम सपने पाल रखे थे, वे टूट कर चूर-चूर हो गए. गांधी जी को लगता था, कि ‘मुस्लिम लीग को पकिस्तान चाहिये, उन्हें वो मि..

वे पन्द्रह दिन… / 15 अगस्त, 1947 – प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). आज की रात तो भारत मानो सोया ही नहीं है. दिल्ली, मुम्बई, कलकत्ता, मद्रास, बंगलौर, लखनऊ, इंदौर, पटना, बड़ौदा, नागपुर… कितने नाम लिए जाएं. कल रात से ही देश के कोने-कोने में उत्साह का वातावरण है. इसीलिए इस पृष्ठभूमि को देखते हुए कल के और ..

वे पन्द्रह दिन… / 14 अगस्त, 1947 – प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). कलकत्ता…. गुरुवार. 14 अगस्त सुबह की ठण्डी हवा भले ही खुशनुमा और प्रसन्न करने वाली हो, परन्तु बेलियाघाट इलाके में ऐसा बिलकुल नहीं है. चारों तरफ फैले कीचड़ के कारण यहां निरंतर एक विशिष्ट प्रकार की बदबू वातावरण में भरी पड़ी है. गांधी ..

‘भारत छोड़ो आंदोलन’ में स्वयंसेवकों की अतुलनीय शहादतें - नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). संघ संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार के देहावसान के बाद संघ के सभी अधिकारी एवं कार्यकर्ता अपने नये सरसंघचालक श्री गुरुजी के नेतृत्व में डॉक्टर जी द्वारा निर्धारित कार्य-विस्तार के लक्ष्य को पूरा करने हेतु परिश्रमपूर्वक जुट गए. श्रीगुरुजी एवं सहयोगी..

युवाओं का लेफ्टविंग हो न राइटविंग, केवल इंडिया विंग

भोपाल(विसंके).  सामाजिक संवाद की गुणवत्ता बढ़ाने में सोशल मीडिया की भूमिका विषय पर युवाओं के साथ चर्चा में फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने कहा कि युवाओं का कोई लेफ्टविंग या राइटविंग नहीं होना चाहिए, उनके लिए सिर्फ इंडिया विंग होना चाहिए। यंग थिंक..

भारत की राष्ट्रीयता है हिंदुत्व : जे. नंदकुमार

भोपाल(विसंके). भारत में अनेक प्रकार की विविधताएं हैं। किंतु, सबको एक तत्व बांधकर रखता है। यह तत्व हिंदुत्व है। हिंदुत्व ही भारत की राष्ट्रीयता है। नेताजी सुभाषचंद्र बोस से लेकर रवीन्द्रनाथ टैगोर तक ने भी यही कहा है। यंग थिंकर्स कॉन्क्लेव के समापन समारोह क..

भारत की पहचान है ज्ञान-परंपरा, भारत ने तर्क से जीती हैं लड़ाइयां

भोपाल(विसंके). चिंतनशील युवाओं के बौद्धिक समागम ‘यंग थिंकर्स कॉन्क्लेव’ में मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल जी ने कहा कि भारत की पहचान उसकी ज्ञान-परंपरा है. हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि यह देश महात्मा गांधी, भगवान बुद्ध और स्वामी..

13 अगस्त - जन्म दिवस / मारवाड़ के रक्षक वीर दुर्गादास राठौड़

अपनी जन्मभूमि मारवाड़ को मुगलों के आधिपत्य से मुक्त कराने वाले वीर दुर्गादास राठौड़ का जन्म 13 अगस्त, 1638को ग्राम सालवा में हुआ था। उनके पिता जोधपुर राज्य के दीवान श्री आसकरण तथा माता नेतकँवर थीं। आसकरण की अन्य पत्नियाँ नेतकँवर से जलती थीं। अतः मजबूर होकर ..

वे पन्द्रह दिन… / 13 अगस्त, 1947- प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). मुंबई… जुहू हवाई अड्डा.टाटा एयर सर्विसेज के काउंटर पर आठ-दस महिलाएं खड़ी हैं. सभी अनुशासित हैं और उनके चेहरों पर जबरदस्त आत्मविश्वास दिखाई दे रहा है. यह सभी ‘राष्ट्र सेविका समिति’ की सेविकाएं हैं. इनकी प्रमुख संचालिका या..

अंतिम श्वास तक ‘अखंड भारत की पूर्ण स्वतंत्रता’ की चिंता - नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). भारतवर्ष की सर्वांग स्वतंत्रता के लिए चल रहे सभी आंदोलनों/संघर्षों पर डॉक्टर हेडगेवार की दृष्टि टिकी हुई थी, यही वजह रही कि डॉक्टर हेडगेवार ने अस्वस्थ रहते हुए भी अपनी पूरी ताकत संघ की शाखाओं में लाखों की संख्या में स्वयंसेवकों अर्थात ..

‘संघ शिविर’ में महात्मा गांधी के साथ डॉक्टर हेडगेवार की ऐतिहासिक भेंट- नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). 14 फरवरी 1930 को अपने दूसरे कारावास से मुक्त होकर डॉक्टर हेडगेवार ने पुनः सरसंघचालक का दायित्व सम्भाला और संघ कार्य को देशव्यापि स्वरूप देने के लिए दिन-रात जुट गए। अब डॉक्टर जी की शारीरिक, मानसिक एवं बौद्धिक शक्तियां संघ..

वे पन्द्रह दिन… / 12 अगस्त, 1947 – प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). आज मंगलवार, 12 अगस्त. आज परमा एकादशी है. चूंकि इस वर्ष पुरषोत्तम मास श्रावण महीने में आया है, इसलिए इस पुरषोत्तम मास में आने वाली एकादशी को परमा एकादशी कहते हैं. कलकत्ता के नजदीक स्थित सोडेपुर आश्रम में गांधी जी के साथ ठहरे हुए लोगों में स..

वे पंद्रह दिन… / 11 अगस्त, 1947- प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). आज सोमवार होने के बावजूद कलकत्ता शहर से थोड़ा बाहर स्थित सोडेपुर आश्रम में गांधी जी की सुबह वाली प्रार्थना में अच्छी खासी भीड़ है. पिछले दो-तीन दिनों से कलकत्ता शहर में शान्ति बनी हुई है. गांधी जी की प्रार्थना का प्रभाव यहां के हिन्दू नेताओं ..

हजारों स्वयंसेवकों के साथ डॉक्टर हेडगेवार पुनः सश्रम कारावास में- नरेन्द्र सहगल

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 11 भोपाल(विसंके). पूर्व में हुए असहयोग आंदोलन की विफलता से शिक्षा लेकर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने अब एक और देशव्यापि आंदोलन करने की योजना बनाई। महात्मा गांधी जी को इस नए, ‘सविनय अवज्ञा ..

धूम धाम से मनाया विश्व हिन्दू आदिवासी दिवस

भोपाल(विसंके). विश्व हिन्दू आदिवासी दिवस पर जिला मुख्यालय पर जनजाति विकास मंच के द्वारा विशाल रैली निकालकर विशाल कार्यक्रम का आयोजन किया गया । जिसका जगह-जगह हिन्दू समाज की विभिन्न जातियो ने स्वागत किया। रैली स्थानीय दशहरा मैदान से निकली जो कि लक्ष्मी टाकी..

वे पंद्रह दिन… / 10 अगस्त, 1947 – प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). दस अगस्त…. रविवार की एक अलसाई हुई सुबह. सरदार वल्लभभाई पटेल के बंगले अर्थात 01, औरंगजेब रोड पर काफी हलचल शुरू हो गयी है. सरदार पटेल वैसे भी सुबह जल्दी सोकर उठते हैं. उनका दिन जल्दी प्रारम्भ होता है. बंगले में रहने वाले सभी लोगों को इ..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 10 –नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). संघ संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार तथा उनके अंतरंग सहयोगी अप्पाजी जोशी 1928 तक मध्य प्रांत कांग्रेस की प्रांतीय समिति के वरिष्ठ सदस्य के नाते सक्रिय रहे। कांग्रेस की इन बैठकों एवं कार्यक्रमों के आयोजन में डॉक्टर जी का पूरा साथ रहता था। ..

जीत साहस की

भोपाल(विसंके). जिंदगी व मौत को सबसे पास से देखने वाले डाक्टर हर दिन एक नई परीक्षा से गुजरते हैं। किंतु आज तो डाक्टर ॠषि के जीवन की सबसे बड़ी परीक्षा थी। 23 नौनिहालों की जिंदगी दांव पर लगी थी । वार्ड में आग लग गई थी व अग्निशामक सिलेंडर की गैस से आग बुझाने ..

वे पन्द्रह दिन… / 09 अगस्त, 1947

भोपाल(विसंके). सोडेपुर आश्रम... कलकत्ता के उत्तर में स्थित यह आश्रम वैसे तो शहर के बाहर ही है. यानी कलकत्ता से लगभग आठ-नौ मील की दूरी पर. अत्यंत रमणीय, वृक्षों, पौधों-लताओं से भरापूरा यह सोडेपुर आश्रम, गांधीजी का अत्यधिक पसंदीदा है. जब पिछली बार वे यहां आ..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 9 – नरेन्द्र सहगल

परम वैभवशाली राष्ट्र के लिए संघ की स्थापना भोपाल(विसंके). भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, अनुशीलन समिति समेत कई क्रांतिकारी दलों, विभिन्न संस्थाओं, लगभग 30 छोटी बड़ी परिषदों/मंडलों, समाचार पत्रों, आंदोलनों, सत्याग्रहों औ..

असम ही नहीं, पूरे देश में एनआरसी लागू हो – अवधेश भदौरिया

भोपाल(विसंके). असम में हाल ही में लागू हुए एनआरसी को लेकर पूरे देश में हलचल मची हुई है। सियासी पार्टियों के सिपहसालार पूरे दम-खम से सरकार के इस साहसिक कदम का विरोधकर, सरकार को खूब खरी-खोटी सुनाने में लगे हुए है। सबसे ज्यादा आक्रामक पश्चिम बंगाल की मुख्यमं..

वे पन्द्रह दिन… / 08 अगस्त, 1947 – प्रशांत पोल

भोपाल(विसंके). शुक्रवार आठ अगस्त…. इस बार सावन का महीना ‘पुरषोत्तम (मल) मास’है. इसकी आज छठी तिथि है, षष्ठी. गांधीजी की ट्रेन पटना के पास पहुंच रही है. सुबह के पौने छः बजने वाले हैं. सूर्योदय बस अभी हुआ ही है. गांधी जी खिड़की के पास बैठे ..

क्रोध व्यक्ति के विवेक को समाप्त कर देता है - श्रीराम जी अरावकर

भोपाल(विसंके). जीवन में योग अति आवश्यक है योग के माध्यम से शरीर न केवल स्वास्थ्य रहता है बल्कि मन भी नियंत्रित रहता है जब व्यक्ति का मन नियंत्रण में रहता है तो क्रोध से बचता है क्योंकि क्रोध व्यक्ति के विवेक को समाप्त कर देता है , ध्यान करने से क्रोध पर न..

प्रेरक: बच्चों की मुस्कान के खातिर

भोपाल(विसंके). इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मैनेजमेंट में एमबीए और यस फाउंडेशन की फैलोशिप करने के बाद 70 हजार रुपए महीने की नौकरी छोड़ कर 23 साल कीं  स्मृति शर्मा इन दिनों रातीबड़ क्षेत्र के गांवों में बच्चों के बीच काम कर रही हैं। इन गांवों में स्कूल छोड़ने ..

वे पन्द्रह दिन… / 07 अगस्त, 1947

भोपाल(विसंके). गुरुवार, 07 अगस्त. देश भर के अनेक समाचार पत्रों में कल गांधी जी द्वारा भारत के राष्ट्रध्वज के बारे में लाहौर में दिए गए वक्तव्य को अच्छी खासी प्रसिद्धि मिली है. मुम्बई के ‘टाईम्स’ में इस बारे में विशेष समाचार है, जबकि दिल्ली के ..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम भाग – 7 – नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). हिन्दू धर्म के सिद्धांतों और अधिकांश रीतिरिवाजों में डॉ. हेडगेवार पूर्ण निष्ठा रखते हुए जेल में अपनी दिनचर्या का निर्वाह करते थे। वे यज्ञोपवीत पहनते थे। जेल के नियमों के अनुसार जब उन्हें इसे उतारने के लिए कहा गया तो उन्होंने ऐसा करने से साफ..

वामपंथ के शिकार बने प्रेमचंद ने दुखी होकर छोड़ा था मुंबई

भोपाल(विसंके). कुछ तो वजह रही होगी, कोई यूं ही बेवफा नहीं होता। प्रेमचंद जैसा लेखक यह कहने को मजबूर हो गया कि अगर तुम मेरी इज्जत करते हो तो इस फिल्म को कभी मत देखना। संकेत यही है कि कथानक से उनकी मर्जी के विपरीत खिलवाड़ किया गया होगा। कहा जाता है कि कि जि..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम भाग - 6 - नरेन्द्र सहगल

भोपाल(विसंके). प्रखर राष्ट्रभक्ति की सुदृड़ मानसिकता के साथ डॉक्टर हेडगेवार ने ‘कांग्रेसी’ कहलाना भी स्वीकार कर लिया। नागपुर अधिवेशन में अपना रुतबा जमाने के बाद वे पूजनीय महात्मा गांधी द्वारा मार्गदर्शित असहयोग आंदोलन को सफल बनाने के ..

वे पंद्रह दिन… / 06 अगस्त, 1947

भोपाल(विसंके). बुधवार… छः अगस्त. हमेशा की तरह गांधी जी तड़के ही उठ गए थे. बाहर अभी अंधेरा था. ‘वाह’ के शरणार्थी शिविर के निकट ही गांधीजी का पड़ाव भी था. वैसे तो ‘वाह’ कोई बड़ा शहर नहीं था, एक छोटा सा गांव ही था. परन्तु अंग्रेजो..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – भाग 5 - नरेन्द्र सहगल

आजादी के लिए संघर्षरत कांग्रेस को पूर्ण समर्थन भोपाल(विसंके). भारत में चल रहे सभी प्रकार के स्वतंत्रता-आंदोलनों, शस्त्रक्रांति के प्रयत्नों, समाज सुधार के लिए कार्यरत विभिन्न संस्थाओं तथा सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के जागरण में जुटी सभी धार्मिक संस्..

वे पंद्रह दिन 5 अगस्त, 1947 - प्रशांत पोळ

भोपाल(विसंके). आज अगस्त महीने की पांच तारीख... आकाश में बादल छाये हुये थे, लेकिन फिर भी थोड़ी ठण्ड महसूस हो रही थी. जम्मू से लाहौर जाते समय रावलपिन्डी का रास्ता अच्छा था, इसीलिए गांधीजी का काफिला पिण्डी मार्ग से लाहौर की तरफ जा रहा था. रास्ते में ‘व..

वे पन्द्रह दिन 4 अगस्त, 1947 - प्रशांत पोळ

भोपाल(विसंके). दिल्ली में वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन की दिनचर्या, रोज के मुकाबले जरा जल्दी प्रारम्भ हुई. दिल्ली का वातावरण उमस भरा था, बादल घिरे हुए थे, लेकिन बारिश नहीं हो रही थी. कुल मिलाकर पूरा वातावरण निराशाजनक और एक बेचैनी से भरा था. वास्तव में देखा जाए..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम - 4

प्रथम विश्व युद्ध और महाविप्लव की तैयारी भोपाल(विसंके). नेशनल मेडिकल कॉलेज कलकत्ता से डॉक्टरी की डिग्री और क्रांतिकारी संगठन अनुशीलन समिति में सक्रिय रहकर क्रांति का विधिवत प्रशिक्षण लेकर डॉक्टर हेडगेवार नागपुर लौट आए। स्थान-स्थान से नौकरी की पेशकश और वि..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम - नरेन्द्र सहगल – भाग- 3 (1 अगस्त से 14 अगस्त तक जारी)

भोपाल(विसंके). भारत को ब्रिटिश साम्राज्यवाद के क्रूर पंजे से मुक्त करवाने के लिए समस्त भारत में एक संगठित सशस्त्र क्रांति का आधार तैयार करने हेतु केशवराव हेडगेवार को तत्कालीन राष्ट्रवादी नेताओं विशेषतया लोकमान्य तिलक ने कलकत्ता भेजा था। तिलक की सांस्कृतिक..

वे पंद्रह दिन... 3 अगस्त, 1947 - प्रशांत पोळ

भोपाल(विसंके). आज के दिन गांधीजी की महाराजा हरिसिंह से भेंट होना तय थी. इस सन्दर्भ का एक औपचारिक पत्र कश्मीर रियासत के दीवान, रामचंद्र काक ने गांधीजी के श्रीनगर में आगमन वाले दिन ही दे दिया था. आज ३ अगस्त की सुबह भी गांधीजी के लिए हमेशा की तरह ही थी. अगस्..

सामूहिक श्रमदान से सार्वजनिक स्थलों को रखें स्वच्छ- श्रीमती शैल सिंह

भोपाल(विसंके). दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा संचालित जन शिक्षण संस्थान, चित्रकूट द्वारा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित स्वच्छता पखवाड़ा जिसमें कौशल से सम्पूर्ण स्वच्छता अंतर्गत दिनांक 16-31 जुलाई 2018 के समापन कार्यक्रम का आयोजन सर..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम – 2 - नरेन्द्र सहगल (1 अगस्त से 14 अगस्त तक जारी)

भोपाल(विसंके). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार जन्मजात स्वतंत्रता सेनानी थे। ‘‘हिन्दवी स्वराज’’ के संस्थापक छत्रपति शिवाजी, खालसा पंथ का सृजन करने वाले दशमेशपिता श्रीगुरु गोविंदसिंह और आर्यसमाज के सं..

वे पन्द्रह दिन…/ 02 अगस्त 1947- प्रशांत पोल

17, यॉर्क रोड…. इस पते पर स्थित मकान, अब केवल दिल्ली के निवासियों के लिए ही नहीं, पूरे भारत देश के लिए महत्त्वपूर्ण बन चुका था. असल में यह बंगला पिछले कुछ वर्षों से पंडित जवाहरलाल नेहरू का निवास स्थान था. भारत के ‘मनोनीत’ प्रधानमंत्री क..

उत्तराखण्ड में लगातार बढ़ रही है मुसलमानों की आबादी

भोपाल(विसंके). उत्तराखण्ड बनने के बाद से यहां के मैदानी जनपदों में मुसलमानों की आबादी में तेज़ी से इजाफा हुआ है साथ ही इन इलाको में नई मस्जिदों के निर्माण के साथ साथ पुरानी मस्जिदों के पुनर्निर्माण में भी तेजी देखी गई है। आखिर ऐसा क्यों हो रहा है ? क्या यह..

डॉक्टर हेडगेवार, संघ और स्वतंत्रता संग्राम - नरेन्द्र सहगल (1 अगस्त से 14 अगस्त तक जारी)

भोपाल(विसंके). एक प्रखर स्वतंत्रता सेनानी डॉक्टर केशवराव बलिराम हेडगेवार द्वारा 1925 में स्थापित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अपने जन्मकाल से आज तक नाम, पद, यश, गरिमा, आत्मप्रसंशा और प्रचार से कोसों दूर रहकर राष्ट्र हित में समाजसेवा, धर्मरक्षा और राष्ट्रभक्..

1 अगस्त, 1947 का वो पहला दिन - प्रशांत पोळ (वे पंद्रह दिन भाग – 1)

भोपाल(विसंके). शुक्रवार, १ अगस्त १९४७. यह दिन अचानक ही महत्त्वपूर्ण बन गया. इस दिन कश्मीर के सम्बन्ध में दो प्रमुख घटनाएं घटीं, जो आगे चलकर बहुत महत्त्वपूर्ण सिद्ध होने वाली थीं. इन दोनों घटनाओं का आपस में वैसे तो कोई सम्बन्ध नहीं था, परन्तु आगे होने वाले..

हमें समय-समय पर समाज से जो सीखने को मिला उसका भी संकलन करते जाना चाहिये - सरकार्यवाह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ – मा. श्री भैया जी जोशी

भोपाल(विसंके). वसुधैव कुटुम्बकम की विशाल भावना को लेकर कार्य प्रस्तुत करने वाले दीनदयाल शोध संस्थान के ‘‘प्रबन्ध समिति एवं साधारण सभा‘‘ की बैठक के दूसरे दिन प्रथम सत्र की शुरूआत देवार्चन, दीपप्रज्जवलन एवं पं. दीनदयाल उपाध्याय एवं र..

23 साल से गढ़ोला खाड़े गाँव के जीर्णोद्धार के लिए कार्य कर रहे मुलायम सिंह ठाकुर ने गाँव को जिले का सबसे साफ गाँव बनाया

भोपाल(विसंके). विद्या भारती मध्य क्षेत्र के पूर्व अध्यक्ष ठाकुर मुलायम सिंह जी द्वारा अपने ग्राम में परिवर्तन के प्रयास की सफल कहानी ।प्रिंसिपल ने रिटायरमेंट के बाद गांव की तस्वीर बदली; 100% साक्षर, स्वच्छता का अवॉर्ड, कम्प्यूटर सेंटर भी खोला दमोह के गढ़..

हम सर्वोत्तम पुरूषार्थ प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहे हैं - वीरेन्द्रजीत सिंह जी (अध्यक्ष दी,शो.संस्थान)

भोपाल(विसंके). व्यक्ति परिवार, (कुटुम्ब) समाज मिलकर एक विशाल इकाई बनती है, ‘‘बसुधैव कुटुम्बकम‘‘। दीनदयाल शोध संस्थान बसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ही देश ही नहीं अपितु विदेशों में भी अपने प्रकल्पों के माध्यम से सतत प्रयत्नशील है। सं..

सेवा भारती द्वारा मेधावी छात्र-छात्राओं का सम्मान समारोह आयोजित, 250 विद्यार्थियों को किया गया पुरुस्कृत

भोपाल(विसंके).  सेवा कार्य ही ईश्वरीय कार्य है। जब हम समाज को शिक्षित, संस्कारित, स्वावलंबी और समरस बनाने के लिए सेवा कार्य करते हैं तो उसी आनंद की अनुभूति करते हैं,जो ईश्वर की आराधना में प्राप्त होता है। यह विचार माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्री..

युवाओं के कंधों पर है सुंदर और आदर्श दुनिया बनाने की जिम्मेदारी

भोपाल के विभिन्न शिक्षा संस्थानों में आयोजित यंग थिंकर्स कॉन्क्लेव-2018 प्री-टॉक में वक्ताओं और युवाओं ने व्यक्त किए विचार भोपाल(विसंके).  लंबे समय की पराधीनता के कारण हमारा मानस ऐसा बन गया है कि आज भी हमारी नजर बाहर लगी हुई है। हम अपनी ज्ञान-प..

त्रिपुरा-मिजोरम के बच्चे कर रहे इंदौर में पढ़ाई

भोपाल(विसंके). तीन साल से पूर्वोत्तर के त्रिपुरा व मिजोरम के गांवों के आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों के बच्चों को शिक्षित कर उनका भविष्य संवारने का काम शहर के युवाओं द्वारा किया जा रहा है। इसकी शुरुआत शहर की निखिल दवे और उनके दोस्त प्रतीक ठक्कर ने कुछ साल ..

सेवाकार्य सकारात्मक और निःस्वार्थ भाव से करें – भय्या जी जोशी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नागपुर महानगर के अजनी भाग में चल रहे सेवा कार्यों का प्रस्तुतीकरण “सेवा दर्शन” कार्यक्रम संपन्न हुआ. सेवा कार्य से जुड़े परिवार अर्थात् सेवादाता व लाभार्थी. सेवा कार्य में अपना समय देने वाले महानुभावों ..

देशी गाय को घर से जोड़ें, और रसायनमुक्त खेती करें – कश्मीरी लाल जी

नई दिल्ली. स्वदेशी जागरण मंच यमुना विहार विभाग व पूर्वी विभाग द्वारा भारतीय व्यापार व स्वदेशी वस्तुओं को पुर्नजीवित करने तथा विदेशी कंपनी वालमार्ट द्वारा स्वदेशी कम्पनी फ्लिपकार्ट को खरीदने, चीन, अमेरिका सहित अन्य देशों की विदेशी कम्पनियों द्वारा भारतीय उ..

'हम देश के लिए कुछ करने का रखते हैं जज्बा'

भोपाल(विसंके). आज के भारत की सबसे बड़ी पूँजी और उसकी सबसे बड़ी ताकत युवा हैं। अपने देश को आगे ले जाने के लिए हम युवा कुछ करना चा.हता हैं। हम अपने कौशल से देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे। कहते हैं कि युवा परिवर्तन का ही दूसरा नाम है, इसलिए हम भी देश औ..

स्वच्छ, सुन्दर, पवित्र चित्रकूट एवं निर्मल मंदाकिनी पर चिन्तन बैठक सम्पन्न

भोपाल(विसंके). ऋषि मुनियों की पावन भू भारत माँ को सम्पूर्ण विश्व श्रद्धा एवं सम्मान की दृष्टि से देखता है। इसके पीछे है हमारे ऋषि मुनियों व पूर्वजों का कठिन तप तथा हमारी गंगा जमुनी संस्कृति। प्रकृति हमें देना सिखाती है, चाहे वे फल से लदे वृक्ष हो, स्वच्छ ..

जनजातीय लड़कियों से शादी कर झारखंड में जमीन कब्जा रहे मुसलमान, प्रतिबंधित संगठन पीएफआई के हैं सदस्य

संथाल. परगना में पुलिस मुख्यालय को भेजी गई एक खुफिया रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है। पीएफआई प्रतिबंध के बावजूद झारखंड के पाकुड़, साहेबगंज और गोड्‌डा में संगठन का विस्तार कर रहा है।इसके तहत योजनाबद्ध तरीके से पीएफआई के सदस्य जनजातीय समाज की लड़कि..

अमर बलिदानी श्रीदेव सुमन / बलिदान दिवस – 25 जुलाई

भोपाल(विसंके). 1947 से पूर्व भारत में राजे-रजवाड़ों का बोलबाला था। कई जगह जनता को अंग्रेजों के साथ उन राजाओं के अत्याचार भी सहने पड़ते थे। श्रीदेव‘सुमन’ की जन्मभूमि उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल में भी यही स्थिति थी। उनका जन्म 25 मई, 1916 को बमुण्..

संघ की दृष्टि में कोई दुश्मन नहीं – इंद्रेश कुमार जी

भोपाल(विसंके). 1947 से पूर्व भारत में राजे-रजवाड़ों का बोलबाला था। कई जगह जनता को अंग्रेजों के साथ उन राजाओं के अत्याचार भी सहने पड़ते थे। श्रीदेव‘सुमन’ की जन्मभूमि उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल में भी यही स्थिति थी। उनका जन्म 25 मई, 1916 को बमुण्..

पौधों का महत्व एवं पौध रोपण

भोपाल(विसंके). दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा संचालित जन षिक्षण संस्थान, चित्रकूट द्वारा कौषल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित स्वच्छता पखवाड़ा जिसमें कौषल से सम्पूर्ण स्वच्छता अंतर्गत दिनांक 16-31 जुलाई 2018 के अंतर्गत दो दिवसीय पौधों का ..

पत्रकार को पेशेवर दर्जा और मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास हो – विष्णु कोकजे जी

पुणे (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश विष्णु कोकजे जी ने कहा कि पत्रकारिता एक व्यवसाय है. लेकिन कानून में इस व्यवसाय को कहीं भी मान्यता नहीं है. इसलिए पत्रकार को पेशेवर दर्जा और साथ ही मीडिया ..

पेड़ हमारे जीवन का अभिन्न अंग है

भोपाल(विसंके). भारतीय किसान समाज में पशु तथा पेड़-इन दोनों को जीवन का अभिन्न अंग माना जाता था। गाय-भैंस-बैल को चारा दिये बगैर, या वृक्ष को पानी पिलाये बगैर, गृहस्वामी या स्वामिनी स्वयं न पानी पीते थे न भोजन करते थे।इन मूक प्राणियों के प्रति हमारे आत्मीयता..

कौशल से सम्पूर्ण स्वच्छता की ओर

भोपाल(विसंके). दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा संचालित जन शिक्षण संस्थान, चित्रकूट द्वारा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित स्वच्छता पखवाड़ा जिसमें कौशल से सम्पूर्ण स्वच्छता अंतर्गत दिनांक 16-31 जुलाई 2018 द्वितीय दिवस पर अपशिष्ट प्रबंध..

मा. प्रधानमंत्री जी से लें स्वच्छता का सबक - भैंरों प्रसाद मिश्र

भोपाल(विसंके). दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा संचालित जन शिक्षण संस्थान, चित्रकूट द्वारा कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रायोजित स्वच्छता पखवाड़े का आयोजन दिनांक 15-31 जुलाई 2018 किया जा रहा है। जिसका शुभारम्भ दिनांक 15.07.2018 को बनाड़ी ग..

सरसंघचालक जी ने सोमनाथ महादेव मंदिर में पूजा अर्चना की

गुजरात (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक 15 जुलाई से 17 जुलाई तक गुजरात के सोमनाथ में आयोजित की गई है. इस बैठक में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी, सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी, सभी सह सरकार्यवाह, केन्द्रीय कार्यकारिणी सदस..

''कई बालगृहों में जोर-जबरदस्ती से किया जाता है कन्वर्जन''

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित एवं दुनिया के प्रख्यात बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी मानते हैं कि रांची के मिशनरीज ऑफ चैरिटी पर लगे आरोप बेहद गंभीर एवं आपराधिक हैं। अगर जांच में ये आरोप सत्य प्रमाणित होते हैं तो उस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी च..

25 गरीब बच्चों के लिए उनकी माँ बनी यूपी के आईएएस अफ़सर की पत्नी

भोपाल(विसंके). उत्तर प्रदेश के विभूतिखंड के आईएएस अफ़सर जितेंद्र कुमार की पत्नी सीमा गुप्ता ने लगभग 25 बच्चों को गोद ले रखा है। ये सभी बच्चे झुग्गी-झोपड़ी या फिर फुटपाथ पर गुजर-बसर करने वाले परिवारों से हैं। सीमा ने बच्चों को न सिर्फ अपने घर में रखा है बल्..