प्रेरक प्रसंग

19 जनवरी / प्रेरक प्रसंग – क्रांतिवीर निर्मलकांत राय जी

देश की स्वाधीनता के लिए गांधी जी के नेतृत्व में जहां हजारों लोग अहिंसक मार्ग से सत्याग्रह कर रहे थे, वहीं दूसरी ओर क्रांतिवीर हिंसक मार्ग से अंग्रेजों को भगाने के लिए प्रयासरत थे l वे अंग्रेज अधिकारियों के साथ ही उन भारतीय अधिकारियों को भी दंड देते थे, जो..

कुछ करुणा-कुछ जीवट-यही है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

  कृतिरूप संघ दर्शन नागालेंड के मगुलोंग गाँव में एक बैठक संपन्न होने के बाद कुछ संघ स्वयंसेवक गाँव के लोगों से मिलने निकले ! ऐसे पहाडी प्रवासों में कार्यकर्ता कुछ प्राथमिक दवाईयां भी साथ रखते थे, जो गाँव के बीमार लोगों के उपचार में काम आती थीं ! ऐसे में उन लोगों को एक बुखार ग्रस्त वृद्ध माँ मिलीं ! साथ के नागा कार्यकर्ता ने पूछताछ कर बुखार उतारने वाली दस गोलियों की एक पत्ती उन्हें दी ! वृद्धा बोलीं, मुझे इतनी गोलियां नहीं चाहिए, पांच गोलियां पर्याप्त होंगी ! जबाब में कार्यकर्ता ने कहा, ..

"स्वामी विवेकानंद के जीवन से जुडी प्रेरणादायक घटनाएँ"

स्वामी विवेकान्द जी के जीवन से बहुत कुछ सीखा जा सकता है l उन्होंने अपने जीवन में कई उत्कृष्ठ  कार्य किये l पुनर्जागरण के लिए पूरे भारत का भ्रमण किया और अपने देश कि संस्कृति ,अध्यात्म और धर्म के प्रचार के लिए विदेश में भी रहे l स्वामी विवेकानंद जी के जीवन से जुडी कुछ घटनाएँ हैं जो बहुत ही प्रेरणादायक हैl पूना प्रवास के दौरान स्वामी विवेकानंद जी के साथ  एक विलक्षण घटना घटी, जिससे उनके विराट व्यक्तित्व का परिचय मिलता हैl गाड़ी में स्वामीजी को द्वितीय श्रेणी से भ्रमण करते देख कर कुछ शिक्षित ..

मेघालय के क्रांतिवीर उक्यांग नागवा बलिदान दिवस – 30 दिसम्बर

उक्यांग नागवा मेघालय के एक क्रान्तिकारी वीर थे। 18 वीं शती में मेघालय की पहाड़ियों पर अंग्रेजों का शासन नहीं था। वहाँ खासी और जयन्तियाँ जनजातियाँ स्वतन्त्र रूप से रहती थीं। इस क्षेत्र में आज के बांग्लादेश और सिल्चर के 30 छोटे-छोटे राज्य थे। इनमें से एक ..

29 दिसम्बर बलिदान दिवस – धौलाना के अमर बलिदानी

क्रांतिकारी धन सिंह गुर्जर   भारत के स्वाधीनता संग्राम में मेरठ की 10 मई, 1857 की घटना का बड़ा महत्व हैl इस दिन गाय और सूअर की चर्बी लगे कारतूसों को मुंह से खोलने से मना करने वाले भारतीय सैनिकों को हथकड़ी-बेड़ियों में कसकर जेल में बंद कर दिया गयाl जहां-जहां यह समाचार पहुंचा, वहां की देशभक्त जनता तथा भारतीय सैनिकों में आक्रोश फैल गयाl मेरठ पुलिस कोतवाली में उन दिनों धनसिंह गुर्जर कोतवाल थेl वे परम देशभक्त तथा गौभक्त थेl अपने संपर्क के गांवों में उन्होंने यह समाचार भेज दियाl उनकी योजनानुसार ..

ऐसे थे अपने दीनदयाल जी-सुशील कुमार

यह रोचक घटना उस समय की है जब पं. दीनदयाल उपाध्याय आगरा में एम. ए. (अंग्रेजी साहित्य) के छात्र थे l इस घटना से उनकी सरलता ,सहजता एवं प्रमाणिकता प्रकट होती है l आज के युवा इस से बहुत कुछ सीख सकते हैं l 45-50 साल पहले तक एक पैसे का सिक्का भी चलन में था l ये सिक्के तांबे के बने होते थे l एक बड़ा सिक्का जिसमे काफी तांबा लगता था फिर उसमे एक गोल छेद करके उसका वजन कम किया गया l जो बड़ा और वजनदार सिक्का था ,जिसे डबली या डबल पैसा भी कहा जाता था ,वह जब घिस जाता था ,दुकानदार उसे खोटा पैसा कहकर लौटा देते थे ..

इतिहास स्मृति -कोटली के अमर बलिदानी "स्वयंसेवक"

हंस के लिया है पाकिस्तान, लड़ के लेंगे हिन्दुस्तान’ की पूर्ति के लिए नवनिर्मित पाकिस्तान ने वर्ष 1947 में ही कश्मीर पर हमला कर दिया था. देश रक्षा के दीवाने संघ के स्वयंसेवकों ने उनका प्रबल प्रतिकार किया. उन्होंने भारतीय सेना, शासन तथा जम्मू-कश्मीर के महाराजा हरिसिंह को इन षड्यन्त्रों की समय पर सूचना दी. इस गाथा का एक अमर अध्याय 27 नवम्बर, 1948 को कोटली में लिखा गया, जो इस समय पाक अधिकृत कश्मीर में है. युद्ध के समय भारतीय वायुयानों द्वारा फेंकी गयी गोला-बारूद की कुछ पेटियां शत्रु सेना क्षेत्र ..

स्व. लाल बहादुर शास्त्री जी की महानता

भारत में बहुत कम लोग ऐसे हुए हैं जिन्होंने समाज के बेहद साधारण वर्ग से अपने जीवन की शुरुआत कर देश के सबसे पड़े पद को प्राप्त किया ! चाहे रेल दुर्घटना के बाद उनका रेल मंत्री के पद से इस्तीफ़ा हो या 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में उनका नेतृत्व या फिर उनका दिया 'जय जवान जय किसान' का नारा, लाल बहादुर शास्त्री ने सार्वजनिक जीवन में श्रेष्ठता के जो प्रतिमान स्थापित किए हैं, उसके बहुत कम उदाहरण मिलते हैं ! उनके जीवन से जुड़े कुछ नायाब पहलू - स्वतंत्रता संग्राम के दौरान लाला लाजपतराय ने सर्वेंट्स ऑफ़ ..