कृषि

‘‘ग्रामीण भारत के ख्वाबों की नई इबारत, किसान को सूखा से मुक्ति’’- भरतचन्द्र नायक

भोपाल(विसंके). हमने ग्रामीण भारत की बुनियादी जरूरतों पर बेरूखी बरती. महत्वाकांक्षी योजनाओं को गले लगाया. इनमें उदारीकरण ने तड़का लगा दिया. आर्थिक उदारीकरण के साथ गांव, गरीब और किसान का चेहरा आंकड़ों के जंगल में खो गया. बाजारवाद परवान चढ़ा जिससे गांवों की अर्..

सहजन की खेती में मुनाफा ही मुनाफा

सहजन की खेती लगाने के 10 महीने बाद एक एकड़ में किसान एक लाख रूपए कमा सकते हैं l कम लागत में तैयार होने वाली इस फसल की खासियत ये है कि इसकी एक बार बुवाई के बाद चार साल तक बुवाई नहीं करनी पड़ती है l साथ ही सहजन एक औषधीय फसल है l गुजरात के मोरबी जिले से पूर..

कृषि -धान से खुशहाली की ओर

साभार-पाञ्चजन्य मानसून की आहट यानी धान रोपाई का मौसम। भारत चावल उत्पादन और निर्यात में  अग्रणी देशों में है। आज भारत में चावल की उन्नत किस्में तैयार की जा रही हैं। बाजार की मांग के मुताबिक इनमें खुशबू और स्वाद तो है ही, इनसे किसानों को अच्छी कीमत ..