जन्म-दिवस - क्रान्तिकारी भाई हिरदाराम

जन्म-दिवस - क्रान्तिकारी भाई हिरदाराम

         28 नवम्बर    भारत का चप्पा-चप्पा उन वीरों के स्मरण से अनुप्राणित है, जिन्होंने स्वतन्त्रता प्राप्ति के लिए अपना तन, मन और धन समर्पित कर दिया। उनमें से ही एक भाई हिरदाराम का जन्म 28 नवम्बर, 1885 को मण्डी (ह

अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल पूर्व क्षेत्र की बैठक संपन्न

अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल पूर्व क्षेत्र की बैठक संपन्न

      भुवनेश्वर. कोरोना संकट की बेला में संघ के स्वयंसेवकों के सेवा कार्य और सामाजिक समरसता, परिवार प्रबोधन, पर्यावरण, जल संरक्षण पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल पूर्व क्षेत्र की बैठक में चर्चा और विचार-विमर्श

अरशद के हवस का शिकार बनी नाबालिग, गर्भवती होने पर हुआ खुलासा

भोपाल - राजधानी भोपाल के समीप औबेदुल्लागंज से नाबालिग के साथ दुराचार करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। नगर के सनोटी गांव में एक 14 वर्षीय बच्ची के साथ मुर्गी फार्म के मालिक अरशद अली और रंजीत नामक व्यक्ति ने दुराचार की घटना को अंजाम दिया, मामले का खुल

  • लंदन और अमेरिका सब जगह करवाचौथ की धूम है 

    लंदन और अमेरिका सब जगह करवाचौथ की धूम है 

    आसमान से निकलने वाले धवल चांद को शायद इतनी कशिश और बेइंतहा प्यार के साथ किसी और दिन न देखा जाता होगा। वो चांद जो रात्रि की कालिमा में आसमान का इकलौता सम्राट है। एक साथ दुनिया भर की सौभाग्यवतियों से अर्घ्य पाता चंद्रमा आज के दिन इठलाता तो होगा। सूरज अगर

    04 Nov 2020

  • मुनव्वर राणा की “इंसानियत, सेकुलरिज्म और बुद्धिजीविता” सभी का मुलम्मा उतर रहा है.

    मुनव्वर राणा की “इंसानियत, सेकुलरिज्म और बुद्धिजीविता” सभी का मुलम्मा उतर रहा है.

         प्रशांत बाजपेई    मुनव्वर राणा की “इंसानियत, सेकुलरिज्म और बुद्धिजीविता” सभी का मुलम्मा उतर रहा है. राम मंदिर फैसले का विरोध, सीएए क़ानून का विरोध, तालिबान का समर्थन, भारत के मित्र देशों से नाराजगी, वैश्वि

    02 Nov 2020

  • फ्रांस से उठी क्रांति विश्व को इस्लामी आतंक के खिलाफ करेगी लामबंद

    फ्रांस से उठी क्रांति विश्व को इस्लामी आतंक के खिलाफ करेगी लामबंद

      कुमार नारद   फ्रांस में जिहादी मानसिकता के एक मुस्लिम युवक ने एक शिक्षक की गला काटकर हत्या कर दी. उसके कुछ दिन एक बार फिर मुस्लिम जिहादी युवक ने चर्च में एक महिला सहित तीन लोगों की गला काटकर हत्या कर दी. इन घटनाओं की विश्व में कड़ी न

    01 Nov 2020

  • यदि नेहरू कश्मीर की आशक्ति छोडकर पटेल के फार्मूले पर अड़ जाते तो आज लाहौर और कराँची हमारा होता

    यदि नेहरू कश्मीर की आशक्ति छोडकर पटेल के फार्मूले पर अड़ जाते तो आज लाहौर और कराँची हमारा होता"- -जयराम शुक्ल

    पटेल चाहते थे कि पाकिस्तान से सभी हिन्दू सिख निकल आएं। मुसलमानों को लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं थी क्योंकि उन्हें पाकिस्तान मिल चुका था...।   यदि नेहरू कश्मीर की आशक्ति छोडकर पटेल के फार्मूले पर अड़ जाते तो आज लाहौर और कराँची हमारा होता"     31 अक्टूबर की तारीख का बड़ा महत्व है। आज के दिन ही सरदार बल्लभ भाई पटेल पैदा हुए थे। इस महान हस्ती को इतिहास के पन्ने से अलग कर दिया जाए तो हम भारतवासीयों की पहचान रीढविहीन और लिजलिजी हो जाएगी। इसलिए इस दिन को मैं प्रातः स्मरणीय मानता हूँ।  हमा

    01 Nov 2020

  • सरदार पटेल: आधुनिक भारत के राष्ट्रनिर्माता

    सरदार पटेल: आधुनिक भारत के राष्ट्रनिर्माता

     डाॅ. जीवन एस. रजक  जीवन का अर्थ है, अविराम निरन्तर उद्देश्यपूर्ण गतिशीलता। ऐसी गतिशीलता जो अवरोधों पर रूके नहीं, चट्टानों पर झुके नहीं और तूफानों में मुड़े नहीं। सरदार वल्लभ भाई पटेल का व्यक्तित्व एक ऐसे ही महान व्यक्ति का व्यक्तित्व है, जिसन

    31 Oct 2020

E-विचार एवं समन्वय सेवा और संवाद
जागरण पत्रिका